समसामयिकी

दुश्मन को पहचान कर भी गले लगाते हैं,

किसी के विरोध की ये कैसी पराकाष्ठा है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *