बी. एच. यू.

महिला सशक्त तो परम ध्येय था,

फिर तो क्या मसला अजेय था।

क्यों निर्दयता पेश किया इस मसले पर,

क्या जनता का यही असली विधेय था।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *