आज के युवा लेखक और कवियों के बारे में कोई जानकारी भले ही न हो किन्तु आज कल हिन्दी के रचनाकारों की कमी है, वजह यह है कि आज का प्रतिभाशाली रचनाकार केवल फेसबुक तक सीमित रह गया है। वह अगर कुछ अदभुत लिखता भी है तो उसे पढने वाले कम ही होते हैं।

इस पहल में हमारा ये पहला प्रयास है कि ऐसे रचनाकारों को एक मंच प्रदान करें और साहित्य के इन नवांकुरों को उपयुक्त नाम और सम्मान दिया जाए।आप सभी से अनुरोध है कि हमारे इस प्रयास में अपना योगदान दें और अपने दोस्तों को भी हमारे साईट के बारे में ज़रूर बतायें।

नई रचनायें:

कविता

कई दिनों से कविता उदास रहती है। व्यस्त जिन्दगी में भी आसपास रहती है। नहीं मिलता वक्त उससे मिलने का जरा भी- इसीलिए आजकल थोडा़…

बेटियाँ

बेटियाँ कच्चे बाँस की तरह, पनपती आधार हैं। बेटियाँ ही अनवरत, प्रकृति की सृजनहार हैं। किसी भी संदेह में ना, उन्हें मारा जाय। उनको भी…

शायरी

नजर गर किसीकी जो मुझ पर है ठहरे, उन्हें चाहतो की मैं दुनिया थमा दु हसीन वादियो में गर मिलन हो हमारा, उन्हें इस जहाँ…